Priyanka Gandhi was sitting in the prayers of the farmers killed in Lakhimpur.

लखीमपुर खीरी में मारे गए किसानो की आत्मा की शांति के लिए संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आयोजित ‘अंतिम अरदास’  प्रार्थना सभा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमे कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी भी पहुंची। उनके साथ UP कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ,राज्य सभा सांसद रणदीप सिंह हुड्डा आदि भी अंतिम अरदास में शामिल हुए। 

संयुक्त किसान मोर्चा ने पहले ही कह दिया था की किसी भी राजनेता को मंच साझा नहीं करने दिया जायेगा।संयुक्त किसान मोर्चा ने मंच से कहा कि हम प्रियंका गांधी, दीपेंद्र हुड्डा का स्वागत करते हैं।मगर किसी भी राजनैतिक व्यक्ति को संयुक्त किसान मोर्चा के मंच पर जगह नहीं दी जाएगी।

प्रियंका गांधी भी मंच के सामने बने पंडाल में ही जमीन पर बैठ गयी और फिर अरदास के मंच पर रखे गुरु ग्रंथ साहिब के सामने अपना मत्था टेका। प्रियंका गाँधी ने लखीमपुर खीरी हिंसा में 4 किसानो और 1 पत्रकार रमन कश्यप के परिजनों से मिलकर उनसे बात की और उनके दुःख को बांटा।

रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी भी मृतक किसानो के अंतिम अरदास में शामिल होने के लिए लखीमपुर के तिकुनिया गांव में पहुंचे, उनको पुलिस ने बरेली एयरपोर्ट पर काफी समय तक रोके रखा ,काफी हंगामा होने पर पुलिस ने उनको लखीमपुर जाने की इजाजत दी। जयंत चौधरी को भी संयुक्त किसान मोर्चा के मंच पर बैठने की जगह नहीं दी गयी।

किसान नेता राकेश टिकैत भी अरदास में शामिल लखीमपुर पहुंचे

किसान नेता राकेश टिकैत भी अंतिम अरदास में शामिल होने के लिए लखीमपुर के तिकुनिया पहुंचे और उन्होंने कहा कि जब तक केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा की गिरफ्तारी नहीं होती और उन्हें मंत्री पद से हटाया नहीं किया जाता तब तक निष्पक्ष जाँच नहीं हो सकती।

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की तरफ से किसान मोर्चा ने कहा की तिकोनिया में लखीमपुर में मारे गए किसानो की याद में एक स्मारक बनाया जाएगा। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा की शहीद हुए किसानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा और न्याय मिलने तक संघर्ष जारी रहेगा, सांप्रदायिक और विभाजनकारी राजनीति से किसान आंदोलन को कमजोर करने की बीजेपी-आरएसएस की योजना को पूरी तरह से विफल कर दिया जाएगा.

और किसान मोर्चा ने एलान किया मृतक किसानों के अस्थि कलश को उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में भेजा जाएगा। इस आखिरी अरदास कार्यक्रम में बड़ी संख्या में स्थानीय लोग,उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान,पंजाब, हरयाणा और चंडीगढ़ से काफी संख्या में लगभग सभी  किसान नेताओ ने शिरकत की,और मृतक किसानों को अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि दी।

इस कार्यक्रम में आने वाली संभावित भीड़ और नेताओं के आगमन को देखते हुए प्रशासन की ओर से पहले से ही चाक-चौबंद व्यवस्था की गयी थी। बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गयी थी। इस कार्यक्रम को देखते हुए प्रशासनिक अधिकारी कमिश्नर रंजन कुमार,डीएम डॉ. अरविंद कुमार चौरसिया, एसपी विजय ढुल, एसडीएम ओपी गुप्ता भी वही मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed