Kisan-Mahapanchayat

आज मुजफ्फरनगर में किसान एकता मोर्चा द्वारा किसान महापंचायत बुलाई गयी है। इसमें देशभर के लगभग 15 राज्यों से आये 300 किसान संगठन आज किसान महापंचायत में शामिल होंगे।महापंचायत में शामिल होने के लिए किसान नेता राकेश टिकैत आज सुबह ही गाजीपुर से मुजफ्फरनगर के लिए निकल चुके है।मुजफरनगर जिला राकेश टिकैत का अपना जिला है।इस महापंचायत में किसान महिलाएं भी भारी संख्या में आईं है।

Rakesh-Tikait-Kisan-Mahapanchayat-GIC-Muzaffarnagar

कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसान आंदोलन के बीच इस महापंचायत पर सबकी नजरें हैं। किसान पिछले साल नवंबर से मांग कर रहे हैं कि केंद्र सरकार तीनों कृषि कानून वापस ले. केंद्र सरकार इसके लिए राजी नहीं है. केंद्र और किसान प्रतिनिधियों के बीच लंबे समय से वार्ता भी नहीं हुई है.किसान एकता मोर्चा ने ट्वीट कर केंद्र सरकार पर निशाना साधा –

केंद्र सरकार जिन्हें “चंद किसान” बताकर नकार रही थी, आज उन किसानों ने अपनी ताकत दिखाई है। अब केंद्र सरकार अपनी बेशर्मी छोड़े और किसानों को मांगे माने।

चौधरी नरेश टिकैत समेत खाप चौधरी भी पहुंचे पंचायत स्थल

जीआईसी मैदान में आज आयोजित किसान महापंचायत में भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष और बालियान खाप के प्रमुख चौधरी नरेश टिकैत समेत अनेक खापों के चौधरी भी पंचायत स्थल पर जीआइसी मैदान में पहुंच गए है।भारतीय किसान यूनियन ने शनिवार से ही एनएच-58 के सिवाया टोल को फ्री करा दिया है और आज यानी रविवार को भी मेरठ से मुजफ्फरनगर के बीच टोल फ्री रहेगा।आज होने वाली किसान महापंचायत में शामिल होने आए लोगों को  खाने के लिए लंगर की व्यवस्था और चिकित्सा की भी व्यवस्था की गई है। भारतीय किसान यूनियन के अनुसार यहां लगभग 500 लंगर और 1000 चिकित्सा यूनिट की व्यवस्था की भी की गयी है.

सुरक्षा को लेकर प्रशासन भी चौकन्ना

इस महापंचायत को लेकर  प्रशासन भी काफी चौकन्ना है।कई जिलों से पुलिस बुलाई गई है।उधर, प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था के चाक चौबंद इंतजाम किए हैं। लोगों की आवाजाही को देखते हुए सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस फोर्स लगा दी गई है। चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात है। निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं. किसान संगठनों ने भी व्यवस्था और सुरक्षा के लिये अपने ५००० से अधिक वालंटियर तैयार किये गए है।

इस किसान महापंचायत को कई राजनैतिक पार्टियों का समर्थन भी प्राप्त है। जिसमे कांग्रेस, राष्ट्रीय लोकदल और समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता भी महापंचायत में शामिल किसानो को हर तरह की मदद कर रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed